Kashmiri Hindus (Pandits)

kashmiri pandits videos

Kashmiri Pandits Videos

भारत के कश्मीर राज्य में हज़ारों सालों से रह रहे हिंदुओं को कश्मीरी पंडित कहा जाता है। पंडितों के सिवाए कश्मीर में काफ़ी जाट और अन्य जातियों के हिंदु भी रहते थे। किसी समय कश्मीर घाटी में 100 प्रतीशत हिंदु हुआ करते थे पर औरंगज़ेब की क्रूर नीतियों की वजह से बड़ी मात्रा में धर्म परिवर्तन हुआ और आज़ादी के समय कश्मीर में महज 15 प्रतीशत हिंदु थे।

इस्लामिक आतंकवाद के कारण कश्मीर में बड़ी मात्रा में हिंदुओं को भागना पड़ा। साल 1947 में कश्मीर में जहां लाखों हिंदु थे पर 1990 में कश्मीरी पंडितों के विरूद्ध हुई हरियारबंद हिंसा में 5 लाख हिंदुओं को कश्मीर छोड़ना पड़ा। वर्तमान समय में महज 3500 हिंदु कश्मीर में रहते है।

इस पेज़ पर हम आपको कश्मीरी हिंदुओ से जुड़े YouTube Videos के links देगें और उनसे जुड़ी सारी जानकारी भी देगें। YouTube Videos के Links नीचे दिए गए और फिर कश्मीरी पंडितों के हुए नरसंहार की जानकारी।

Kashmiri Pandits Videos on YouTube : 5 Videos

Anupam Kher Pays Tribute To Kashmiri Pandits


Watch On YouTube

DNA: Why no voice is being raised in favour of Kashmiri Pandits?


Watch On YouTube

Panel discussion on why intellectuals never raised voice against Kashmiri Pandits


Watch On YouTube

Tearful Story of Kashmiri Pandits’ Exodus and Massacre


Watch On YouTube

Kashmiri Pandits share personal experiences of brutality


Watch On YouTube

कश्मीर में हिंदुओं पर हुए अत्याचारों की पूरी कहानी

kashmiri hinduo ki kahani

– आजा़दी के बाद पाकिस्तान ने कश्मीर पर हमला कर दिया पर नेहरू ने सेना को उनके ख़िलाफ कार्यवाई करने से रोक दिया।

– पाकिस्तान ने कश्मीर के मुस्लिमों को कश्मीर में रह रहे हिंदुओं को भगाने के लिए कहा और उन्होंने कश्मीरी हिंदुओं का कत्लेआम शुरू कर दिया। महिलाओं का सामूहिक बालात्कर करके उनको जिंदा जलाया गया और उनकी अध – जली लाशों को पेड़ों पर लटका दिया गया।

– पाकिस्तान जब कश्मीर के 33 फीसदी हिस्से पर कब्ज़ा कर चुका था और 3 लाख कश्मीरी हिंदुओं की हत्या कर चुका था जब जाकर नेहरू ने सेना को कार्यवाई करने का आदेश दिया।

– साल 1981 कर कश्मीरी में हिंदुओं की गिणती महज 5 प्रतीशत रह गई। इसके बाद उनके ऊपर जुल्म और बढ़ने लगे।

– कश्मीर में हिंदुओं पर कहर टूटने का सिलसिला 1989 जिहाद के लिए गठित जमात-ए-इस्लामी ने शुरू किया था।

– जनवरी 1990 में हर कश्मीरी हिंदु के घर के बाहर पोस्टर लगा दिए गए थे कि, ” हम कश्मीर चाहते है बिना हिंदुओं के पर हिंदु औरतों के साथ । ”

– उस दौर के अधिकतर हिंदू नेताओं की हत्या कर दी गई। भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य और वकील कश्मीरी पंडित, तिलक लाल तप्लू की जेकेएलएफ ने हत्या कर दी। इसके बाद जस्टिस नील कांत गंजू की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई।

kashmiri pandits videos

– 19 जनवरी को 1990 को कश्मीरी हिंदुओं का जबरदस्त कत्लेआम हुआ, लगभग 2 हज़ार हिंदुओ की हत्या कर दी गई और महिलाओं का सामूहिक बालात्कर कर उन्हें जिंदा जला दिया गया।

– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक कश्मीरी पंडित नर्स के साथ आतंकियों ने सामूहिक बलात्कार किया और उसके बाद मार-मार कर उसकी हत्या कर दी।

– यह सब मंज़र देख कर 5 लाख हिंदु कश्मीर छोड़ कर भाग गए और आज वो अपने ही देश में जम्मू और दिल्ली में रिफ्युजियों की तरह रह रहे हैं।

– आज केद्र की मोदी सरकार कश्मीरी हिंदुओं को दुबारा बसाने के परियास कर तो रही है पर काग्रेस समेत विरोधी पार्टियां उनके काम में अडंगा लगा रही है।

1990 के बाद भी कश्मीर में हिंदुओं का कई बार कत्लेआम हुआ. .

– 14 अगस्त 1993 को डोडा में बस रोककर 15 हिंदुओं की हत्या कर दी गई।

– 21 मार्च 1997 को संग्रामपुर में घर में घुसकर 7 कश्मीरी पंडितों को किडनैप कर मार डाला गया।

– 25 जनवरी 1998 को वंधामा में हथियारबंद आतंकियों ने 4 कश्मीरी परिवार के 23 लोगों को गोलियों से भून कर मार डाला।

– 17 अप्रैल 1998 को उधमपुर जिले के प्रानकोट गांव में एक कश्मीरी हिन्दू परिवार के 27 मौत के घाट उतार दिया था, इसमें 11 बच्चे भी शामिल थे। इस नरसंहार के बाद डर से पौनी और रियासी के 1000 हिंदुओं ने पलायन किया था।

– साल 2000 में अनंतनाग के पहलगाम में 30 अमरनाथ यात्रियों की मुसलमानों ने हत्या कर दी थी।

– 20 मार्च 2000 चित्ती सिंघपोरा में होला मना रहे 36 सिखों की गुरुद्वारे के सामने आतंकियों ने गोली मार कर हत्या कर दी। उनको एक लाइन में खड़ा करके गोली मारी गई थी।

– 2001 में डोडा में 6 हिंदुओं की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

– 2001 में ही जम्मू कश्मीर रेलवे स्टेशन पर सेना के भेष में आतंकियों ने रेलवे स्टेशन पर गोलीबारी कर दी, इसमें 11 लोगों की मौत हो गई।

– 2002 में जम्मू के रघुनाथ मंदिर पर आतंकियों ने दो बार हमला किया, पहला 30 मार्च और दूसरा 24 नवंबर को। इन दोनों हमलों में 15 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई।

– 2002 क्वासिम नगर में 29 हिन्दू मजदूरों को मारडाला गया। इनमें 13 महिलाएं और एक बच्चा शामिल था।

– साल 2003 में पुलवामा जिले के नदिमार्ग गांव में आतंकियों ने 24 हिंदुओं को मौत के घाट उतार दिया था।

– 18 सितंबर 2016 को आतंकवादियों ने उरी में भारतीय सेना के कैंप पर हमला कर दिया। उन्होंने सोए हुए सैनिकों पर ताबड़तोड़ फायरिंग की और ग्रेनेड फेंककर कैंप में आग लगा दी। इससे लगभग सौ मीटर के दायरे में भीषण आग लग गई, जिसमें 18 सैनिकों की जान चली गई।

Tags : Kashmiri Pandits Videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!